Short Essay On Bakrid In Hindi

Bakr-Id, also known as Idulzuha, is a sacred festival of the Muslims. It is celebrated for three days starting from the tenth to twelfth day in the last month of Islamic calendar all over the world.

On this day, all the Muslims gather in the mosque or open ground and offer. Namaz empty stomach After Namaz, Qurbani an important part of the festival in which an animal is sacrificed, is performed all over the world by those Muslims who possess wealth equal to more than 400 grams of gold.

The animal sacrifices made during the festival are mainly to provide food to the poor and to commemorate the noble act of Ibrahim.

During the three days of the festival; a goat or a camel or a sheep is slaughtered and one-third portion of its meat is given to the poor, one third to the relatives and the remaining is for self use. This sacrifice can be offered at any time before the afternoon of the third day.

This practice of sacrifice is strictly followed during Haj in Mecca where pilgrims from all over the world flock to perform special rituals.

On the day people wear new clothes, offer prayers, visit relatives and friends and exchange greetings. Prayers and feasts are an integral part of this festival.


Advertisements:

बकरीद


'बकरीद' मुसलमानों का एक प्रसिद्द त्यौहार है। इसे 'ईद-उल-ज़ुहा' अथवा 'ईद-उल-अज़हा' के नाम से भी जानते हैं। यह बलिदान का पर्व है। यह हर साल मुस्लिम माह जुल-हिज्जा के दसवें दिन मनाया जाता है।

माना जाता है कि पैगंबर हज़रत इब्राहीम को ईश्वर की ओर से हुक्म आया कि वह अपनी सबसे अधिक प्यारी वस्तु की कुर्बानी दे। हज़रत के लिए उनका बेटा सबसे अधिक प्यारा था। ईश्वर का हुक्म उनके लिए पत्थर की लकीर था। वह उसे मानने के लिए तैयार थे। कुर्बानी से पहले उन्होंने इस विषय पर बेटे से बात की। बेटे ने पिता के फैसले को सही बताया और हँसते-हँसते कुर्बान हो गया। पिता और बेटे की भक्ति देखकर ईश्वर प्रसन्न हुए और उन्होंने हज़रत के बेटे को जीवनदान दिया। तबसे लेकर आज तक इसे मनाया जाता है।

बकरीद की तैयारी त्यौहार के कई दिनों पहले से आरम्भ हो जाती है। परिवार के सभी सदस्यों के लिए नए कपड़े खरीदे जाते हैं। इस त्यौहार में बकरे की बलि देने का विधान है। अतः बकरे खरीदे जाते हैं। बकरे की कुर्बानी के बाद उसके गोश्त को तीन भागों में विभक्त किया जाता है। इसका एक भाग परिवार के लिए, दूसरा भाग संबंधियों के लिए तथा तीसरा भाग गरीबों में बाँटा जाता है। यह त्यौहार दुनिया भर में मुसलमानों के बीच काफी उत्साह के साथ मनाया जाता है।



One thought on “Short Essay On Bakrid In Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *